बंजारन हूँ मैं,

युगों-युगों की बंजारन!

लेती जाती हूँ

जनम पर जनम,

कभी इस गाँव,

कभी उस शहर;

कभी इस नदी में अक्स देखती हूँ,

कभी उस नदी की लहरें गिनती हूँ;

कभी मरुभूमि पर तपती हूँ,

कभी समन्दर किनारे विचरती हूँ,

कभी पहाड़ों पर तपस्या करती हूँ…

बंजारन हूँ मैं,

युगों-युगों की बंजारन!

न जाने क्या तलाश है?

न जाने क्या खोज रही हैं मेरी आँखें?

न जाने दिल में क्या तलब है?

न जाने जिगर को क्या आरज़ू है?

न जाने ज़हन में क्या जुस्तजू है?

न जाने क़दमों की क्या ख़्वाहिश है?

न जाने रूह में क्या बेचैनी है?

नहीं जानती यह भी कि कौन हूँ मैं?

बंजारन हूँ मैं,

युगों-युगों की बंजारन!

ए ख़ुदा!

शायद यह तुझसे ही मिलने की आरज़ू है|

पर यह इतनी छोटी सी चाहत

क्यों तड़पाती है मुझे?

क्यों कराती है मुझसे

यह अनजाना सफ़र?

अब तो

मिट जाने दे मेरी हस्ती;

घुल जाने दे मुझे, तुझमें,

कि एक हो जाएँ, मैं और तू!

Categories: Uncategorized

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *